Breaking News

अनिश्चितकालीन धरने का द्वितीय दिन (जब तक निर्माण प्रारम्भ नहीं , तब तक धरने का अन्त नहीं ! ) Dainik Mail 24


कानपुर से ऋषभ कटियार की रिपोर्ट

कानपुर । बर्रा-7  के ही रहने वाले श्री चकित सिंह जी ने अनिश्चितकालीन धरने पर बैठने का फैसला ले लिया । अब उनको धरने पर बैठे दो दिन हो गये हैं मगर शासन के कान में जू भी नहीं रेंग रही है । एस/एस प्लाट बर्रा ~ 7, राष्ट्रीय राजमार्ग (नेशनल हाइवे) पर विगत 6 महीने से, जल कि टूटी पाइप लाइन के कारण प्रतिदिन प्रातः तथा सायं लाखों लीटर जल व्यर्थ हो रहा हैं, चकित सिंह जी (के0 के0 सिंह ) का कहना है की इस समस्या का तुरन्त निस्तारण होना चाहिए अन्यथा बड़ी घटना घट सकती है , चकित जी बताते हैं कि परसों ही एक महिला को बाइक से गिरने के कारण काफी चोट आई थी । वो भी इसी जलभराव के कारण फिसल कर गिर गयी थी, उन्हें तुरन्त हास्पिटल में भर्ती कराया गया । इसकी तत्काल मरम्मत हो। *






* जल कि टूटी पाइपलाइन के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग (नेशनल हाइवे) कमजोर व खोखला होकर धंसता जा रहा हैं, जिसके कारण राहगीरों पर खतरा बना हुआ हैं। *

जल बहाव व भराव के कारण क्षेत्रीय लोगों को चिंता व आने - जाने में समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं, तथा सड़कें खराब हो रही हैं।

प्रतिदिन सैकड़ों नेता, अधिकारी इस राष्ट्रीय राजमार्ग (नेशनल हाइवे) से यात्रा करते हैं, क्या उनको यह खतरनाक समस्या नहीं दिखती, क्या वह आँख बन्द कर लेते हैं ?

नेता, अधिकारी क्या बड़ी दुर्घटना की प्रतीक्षा कर रहें हैं ?

नेता, अधिकारी """विश्व जल दिवस (22/मार्च)""" मनाने का दिखावा क्यों करते हैं ?

ऊपर से नीचे तक एक ही पार्टी के गणमान्य हैं, फिर भी जनता कि समस्याओं का हल नहीं हैं ?

यह सब कहना है हमारे चकित जी का जो कि एक समाज सेवक हैं आपको बताते चलें की यह उनकी निजी समस्या नहीं है , वो भी हमारी आपकी तरह ही दैनिक कार्यों में व्यस्त रह सकते हैं, मगर हाइवे पर पानी का बर्बाद होना और किसी बड़ी दुर्घटना के इन्तजार में बैठना उन्होंने उचित नहीं समझा । उन्होंने कहा यह हमारा मौलिक कर्तव्य है । और कई प्रयासों के बाद जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो विवश होकर उन्हें धरने पर बैठना पड़ा । किसी भी नेता ने अभी तक कोई संज्ञान नहीं लिया है चकित सिंह जी प्रतिदिन धरने पर बैंठेगे जब तक की रोड की मरम्मत तथा पाइप लाइन की मरम्मत नहीं हो जाती है । दो महिने पहले की बात है सुरेन्द्र मैथानी जी जो कि  भाजपा के एक बड़े नेता हैं, यह समस्या देखकर भी गये थे । मगर सभी की तरह वो भी भूल गये की यह उन्हीं का काम है, नेशनल हाईवे की बात कहकर इसे टाल दिया ।  

चकित सिंह जी का  कहना है । नेताओं, अधिकारियों का कार्य हैं, तो वह तत्काल पूर्ण हो जाएगा, जनता के हित का कार्य क्यों नहीं ?

No comments