Breaking News

एक पेड़ से मिल रहा है पांच प्रजातियों के आमों का स्वाद Dainik Mail 24

एक पेड़ से मिल रहा है पांच प्रजातियों के आमों का स्वाद


रिपोर्टर- अभिजित त्रिपाठी

अमेठी। एक पेड़ से अगर आपको पांच प्रजातियों के आम का स्वाद मिले तो ये है ना अच्छी बात। यह कर दिखाया है अमेठी के एक किसान ने। अमेठी ज़िले के बनवीरपुर बघौरा के किसान गया प्रसाद दुबे ने इसे सच कर दिखाया है। उन्होंने आम के एक ऐसे पौधे की नस्ल को ईजाद किया है, जिसपर पांच प्रजातियों के आम एक साथ, एक ही पेड़ में फल रहे हैं। इस पौधे की सबसे बड़ी खासियत यह है, कि यह कम जगह लेता है, ज्यादा फैलता भी नहीं।

एक पेड़ में पांच प्रजातियों के आम फलने से जहां किसानों की आय में भी वृद्धि होगी, वहीं कम जगह में फैलने की वजह से जमीन भी ज्यादा नहीं लगेगी। इस नए किस्म के पौधे को किसान खूब पसंद कर रहे हैं।आम के एक पेड़ में पांच प्रजातियां यथा मालदह, बंबई, जर्दालु, गुलाबखास एवं हिमसागर का स्वाद मिल सकता है। इस तकनीक से अमेठी के किसान गया प्रसाद दुबे की आय बढ़ी। उनके उद्यान में ऐसे पौधे प्रदर्शनी के रूप में लगे हैं। ऐसे पौधों की बिक्री से गया प्रसाद की आय में वृद्धि हुई है। उनके जीवन स्तर में सुधार हुआ है। गया प्रसाद दुबे ने रहमान खेड़ा लखनऊ से इस आम के पेड़ की जानकारी ली थी।

उन्होंने आम के पेड़ की नर्सरी भी डाली है । इसमें फनी कलम तकनीक का प्रयोग होता है। गुठली से तैयार बीजू पौधे की अलग-अलग डालियों में फनी कलम बांधने की तकनीक से एक पेड़ में पांच आम प्राप्त होता है। किसान गया प्रसाद के अनुसार इस तकनीक में सर्वप्रथम आम की गुठली को तैयार नर्सरी में डालते हैं। अब नर्सरी में बने बेड पर अंकुरित गुठली के पौधों को 20-20 सेमी की दूरी पर लगाते हैं।इससे रूट स्टाक तैयार हो जाता है।इसके पश्चात जिस प्रजाति का फल लेना हो,उसके मातृ पेड़ की स्वस्थ शाखा की अग्र भाग के छह इंच की सभी पत्तियों को एक इंच छोड़ कर काट देते हैं।एक सप्ताह बाद उन छह इंच के कटे हुए अग्र भाग को बड स्टीक के रूप में काट लेते हैं।45 दिनों में उस बड स्टीक से मातृ प्रजाति की डाली निकलती है,जिससे उक्त प्रजाति के फल प्राप्त होते हैं। इसी तकनीक से अलग-अलग डालियों में अलग-अलग प्रजातियों के बड स्टीक लगा कर आम के एक पेड़ में चार- पांच प्रजातियों के फल प्राप्त किए जाते हैं।

No comments