Breaking News

बाबा घुइसरनाथ से चित्रकूट और अयोध्या का जुडना बडी उपलब्धि Daink Mail 24

 बाबा घुइसरनाथ से चित्रकूट और अयोध्या का जुडना बडी उपलब्धि : Pramod Tiwari


वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कोरोना के देश मे लगातार बिगड़ती स्थिति को बताया चिंताजनक


Team Dainik Mail 24



राज्यसभा के पूर्व सदस्य एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने घुइसरनाथ धाम से चित्रकूट को जोडने वाले रामपुरखास के एक नये स्टेट हाइवे की स्वीकृति को अयोध्या से चित्रकूट के लिए एक नए राष्ट्रीय राजमार्ग की मंजूरी का मार्ग प्रशस्त होना करार दिया है। शनिवार को प्रमोद तिवारी ने जारी बयान मे बताया कि केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा राज्यसभा के सदस्य के रूप मे उनके कार्यकाल मे प्रस्तावित अमेठी के जगदीशपुर, गौरीगंज तथा प्रतापगढ़ के अठेहा, लालगंज अझारा, आलापुर, सैनी, सिराथू, मंझनपुर मार्ग को एनएच के रूप मे बनाए जाने सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान कर रामपुरखास की जनता को अब सीधे एक नए नंबर के साथ राष्ट्रीय राजमार्ग के रूप मे चित्रकूट से घुइसरनाथ धाम होते हुए अयोध्या को जोडने के लिए मंजिल की ओर मजबूत कदम की सफलता भी प्रदान की है। प्रमोद तिवारी ने तहसील लालगंज मुख्यालय को जोडते हुए रामपुर बावली, संग्रामगढ़, मंझनपुर, कौशाम्बी से चित्रकूट के लिए एक सौ बारह किमी. स्टेट हाइवे को स्वीकृत कराने के लिए क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना के प्रयासो को सराहते हुए कहा कि स्टेट हाइवे का मकसद क्षेत्र को एक नए राष्ट्रीय राजमार्ग से जोडने का वह सशक्त मंजिल है, जिसके चलते लाखों लोगों को सीधा और सुगम मार्ग मिल सकेगा। वहीं प्रमोद तिवारी ने विधायक आराधना मिश्रा मोना के एक और लगातार जारी प्रयासो के तहत लालगंज से बाबूगंज, डेरवा तथा कटरा गुलाब सिंह, जेठवारा, कल्यानपुर, सोरांव, फूलपुर, हंडिया के लिए भी एक नए नेशनल हाइवे की सैद्धांतिक स्वीकृति को भी प्रयागराज मण्डल के लिए बडी देन ठहराते हुए कहा है कि इन दोनो राष्ट्रीय राजमार्गो के बनाए जाने की मंजिल हासिल होते ही रामपुरखास से गुजरने वाले यह दोनों बडे हाइवे अन्य महत्वपूर्ण राष्ट्रीय राजमार्गो को भी जोडने मे सडक संसाधन के लिए महत्वपूर्ण उपलब्धि हो सकेगी। वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कोरोना के देश मे लगातार बिगड़ती स्थिति को चिंताजनक ठहराते हुए हाल ही मे कोरोना से जुडे केन्द्रीय वित्त मंत्री के बयान को गैरजिम्मेदारानापूर्ण ठहराते हुए कहा कि वित्त मंत्री का यह बयान पूरी तरह हास्यास्पद है कि कोरोना एक्ट आफ गॉड है। श्री तिवारी ने तंज कसा कि असलियत तो यह है कि कोरोना मोदी सरकार के प्रबन्धन की अब तक की सबसे बडी विफलता है। श्री तिवारी ने कहा कि सरकार के मंत्रियो को आये दिन इस तरह की गैरजबाबदेही के बयान देने के बजाय इस महामारी को लेकर जनता को चिकित्सीय सुविधाओ व देश मे टेस्टिंग का प्रतिशत बढाए जाने के प्रति सचेत होना चाहिए। पूर्व राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने प्रदेश की भी कानून और व्यवस्था के दिन प्रतिदिन बिगडने को भी चिंताजनक ठहराते हुए कहा कि अब तो यूपी के जंगलराज मे आम आदमी से लेकर बुद्धिजीवी वर्ग तक अपने को असुरक्षित महसूस कर रहा है। श्री तिवारी ने कहा कि हालात इस कदर बिगड गये है कि प्रदेश मे लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ पत्रकारिता तक पर हमले हो रहे है। प्रमोद तिवारी ने कहा कि प्रदेश मे मासूम बच्चियो के साथ आये दिन हो रही दरिंदगी से लोगों का दिल दहल गया है। उन्होने ने यह भी आरोप लगाया कि शासन प्रशासन के मूकदर्शक बनने के कारण प्रदेश मे अब अपराधियो मे तनिक भी भय नही रह गया है। बकौल प्रमोद लखीमपुर खीरी की एक छात्रा के इण्टरमीडिएट मे प्रवेश के लिए आनलाइन फार्म भरने जाते समय उसकी निर्मम हत्या और ईसा नगर थाना मे तेरह साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हुई हत्या जैसी घटनाएं सरकार के द्वारा अपराध नियंत्रण को लेकर कोई ठोस कदम न उठाए जाने की देन है। मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल के हवाले से जारी बयान मे प्रमोद तिवारी ने केन्द्र सरकार द्वारा जेईएफ तथा एनईईटी परीक्षाओ को कोरोना के खतरनाक काल मे ही कराए जाने की जिद तथा खाद और उर्वरक की रोज हो रही कालाबाजारी और बिजली संकट के साथ कानून व्यवस्था पर भी सरकार के अनियंत्रण की भी तल्ख आलोचना करते हुए कहा कि देश की जनता समस्याओ से जूझ रही है और केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारें लगातार जबाबदेही से सिर्फ भाग रही है।

No comments