Breaking News

हिन्दी के उत्थान के लिये कवियों ने पढी रचनाएँ Dainik Mail 24

 


प्रतापगढ़ ।हिंदी पखवाड़ा के अंतर्गत रवि आभा युग निर्माण समाज एवम एजुकेशनल एंड सोशल वेलफेयर ट्रस्ट के साहित्यिक अंग अंतर्राष्ट्रीय मानवता वादी लेखक संगठन के तत्वावधान में गूगल मीट पर बहुत ही हर्षोल्लास के साथ सफलता पूर्वक मनाया गया हिंदी दिवस । 


     कार्यक्रम का आयोजन किया अमालेस के संस्थापक एवम अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तिवारी रवि आभा ने संयोजक थे ।वसुंधरा दहेज उन्मूलन ट्रस्ट के संस्थापक योगेश त्रिपाठी संचालिका श्रीमती पुष्पलता लक्ष्मी रही इस भव्य कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रहे वरिष्ठ साहित्यकार एवम चर्चित शायर आदरणीय कुंवर कुसुमेश तथा विशिष्ट अतिथि असिस्टेंट कमिश्नर (आयकर ) धीरज राय जी 
आयोजन में देश के कोने कोने के साहित्यकारों ने ही भाग नही लिया अपितु विदेश (अमेरिका )से भी हिंदी दिवस पर हमारे साहित्य कार जुड़े ।कार्यक्रम कि शुरुआत सरस्वती वंदना दुर्गाशंकर वर्मा, दुर्गेश ने बहुत ही मधुर स्वर में की । इस काव्य पाठ में भावना भारद्वाज (दिल्ली )परिणीता कौशिक जी (नरेला, दिल्ली ) महेश उनियाल जी (उत्तराखंड )महेश कुमार, 'माही' जी (नागौर, राजस्थान ), लक्ष्मी रावत कुम्मी (उत्तराखण्ड) अर्चना ओजस्वी जी, (अमेठी) दीप्ती निर्मलकर कनोजिया (भिलाई )अनुरूपा नेगी, अनु श्री (उत्तराखंड ) अनामिका अमिताभ गौरव (आरा, बिहार )आदेश सिंह राणा (उत्तराखंड )भारती आनंद (देहरादून )तमन्ना चौहान (उत्तराखंड ), संदीप डबराल, सेंडी (उत्तराखण्ड)  अंजलि श्रीवास्तव ( बदायूँ) विजय लक्ष्मी राय, विजय (दिल्ली ) अरुण शुक्ल जी अर्जुन ( प्रयागराज),  
 आभा मिश्रा जी (प्रतापगढ़ ) प्रभाकर केसरी जी, (प्रयागराज),कृष्णकुमार द्विवेदी(प्रतापगढ़)धीरेन्द्र सिंह चौहानजी,  (उत्तराखंड ), पूजा शर्माजी  (रामपुर), ललित डोभाल जी, (उत्तराखण्ड ) कंचन तिवारी, 'कशिश' जी, (जौनपुर)अनामिका मिश्रा दीप प्रिया (राँची झारखण्ड) जी, अमित कुमार जी (अमेरिका) हृदय सम्राट यशोदा नन्दन खुराफाती आदि सभी कवि कवयित्रियों ने अपनी मन मोहक रचनाओं से कार्यक्रम को नई ऊर्जा प्रदान की। इसके अतिरिक्त आयोजन में आए हुए अतिथियों मुख्य अतिथि  कुँवर कुसुमेश विशिष्ट अतिथि धीरज राय द्वारा किया गया काव्यपाठ बहुत ही उम्दा एवं यादगार बना। इस आयोजन की एक विशेष बात यह भी रही कि संस्था के संस्थापक प्रवीण तिवारी रवि आभा एवं कार्यक्रम के संयोजक योगेश त्रिपाठी ने युवा साहित्यकारों में से कुछ को इनाम स्वरूप कुछ धनराशि तो कुछ को अध्ययन कार्य के आर्थिक मदद की घोषणा की। संचालिका पुष्पलता लक्ष्मी जी ने बहुत कुशलता से मंच का संचालन किया। अतिथियों एवं साहित्यकारों की भूमिका में उनके द्वारा बोली गयी पंक्तियाँ उनके संचालन में चार चाँद लगा रही थी। कुल मिला कर कार्यक्रम अपने आप में बहुत भव्य, विशेष, आनंददायक व सफल रहा। रविआभा युगनिर्माण समाज के अध्यक्ष हरिश्चंद्र त्रिपाठी ,संस्थापिका एवं महासचिव रेखा तिवारी एवं संरक्षक धर्मप्रकाश पाण्डेय ने सभी साहित्यकारों के अभिव्यक्ति से अभिभूत होकर शुभकामनाएं अर्पित किया।अमालेस संस्थापक प्रवीण तिवारी रविआभा ने साहित्यकारों को और हिन्दी भाषा को प्रोत्साहित करने हेतु निःशुल्क संयुक्त काव्यसंग्रह प्रकाशित करने की प्रक्रिया भी जल्द शुरू करने की बात कही और भविष्य में हिन्दी भाषा को संयुक्त राष्ट्र की भाषा और समस्त संसार में लोकप्रिय बनाने हेतु  सबको तत्पर होने के लिए आह्वान किया और भारत में इसे राष्ट्रभाषा के वास्तविक गौरव से विभूषित  करने हेतु सबके सहयोग से आवाज उठाने की बात भी कही। अन्त कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे दुर्गा शंकर वर्मा दुर्गेश द्वारा राष्ट्रगान के साथ ही कार्यक्रम के समापन की घोषणा की गई।




No comments