Breaking News

वीडियोग्राफी के बीच हुआ मृत सिपाही का पोस्टमार्टम Dainik Mail 24

 



प्रतापगढ़।लालगंज कोतवाली बैरिक में खुद को एके सैंतालीस से गोली मारकर मौत को गले लगाने वाले सिपाही के शव का कड़ी सुरक्षा ब्यवस्था के बीच शनिवार को पीएम हुआ। जिला अस्पताल के डाक्टरों के पैनल ने वीडियोग्राफी के साथ शव का पीएम किया।  कोतवाली लालगंज में तैनात आरक्षी आशुतोष यादव (24 ) ने शुक्रवार को बैरिक की छ्त पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। शनिवार को मृत सिपाही का पिता अखिलेश परिजनों के साथ कोतवाली पहुँचा। बैरिक की छ्त पर पहुँचते ही मृतक के पिता, भाई फूट फूट कर रोने विलखने लगे। वहीं कोतवाली में भी दूसरे दिन भी मातमी सन्नाटा दिखा। मृतक के साथी सिपाही भी हादसे को लेकर गमगीन दिखे। पुलिस मृत सिपाही के मोबाइल का डिटेल सर्विलांश के जरिये खंगाल रही है। पुलिस को फोरेसिंक टीम की भी जांच रिपोर्ट का इंतजार है। मृतक के परिजनों ने बताया कि पिछले महीने अवकाश पर घर गया आशुतोष काफी गुमसुम रहता था। इधर अवकाश से वापस आने के बाद भी मृतक महकमें में भी गुमसुम बना रहता था। साथियों से भी इनदिनों उसने दूरी बना ली थी। परिवारिकजनों के मुताबिक  मृत सिपाही की शादी भी लगभग तय थी। अब सवाल यह उठता है कि क्या मृतक आशुतोष का रिश्ता पसंद नहीं था या फिर उसकी चाहत कुछ और थी। विभागीय अनबन को लेकर भी कयास जारी है। इधर जांच का विभागीय पहलू यह भी है कि एकेसैंतालीस जैसे हथियार के साथ कोतवाल के हमराह सिपाही घंटों लापता रहा तो देर शाम उसकी तलाश में लापरवाही क्यों बरती गयी। पुलिस जीडी में लिखापढ़ी क्यों न हो सकी। हाल ही में शासन के फरमान कि सिपाही को अकेले सशस्त्र नहीं भेजा जायेगा तो भी घंटो उसे क्यूं नहीं तलाशा गया। अगर मृतक सिपाही गुमसुम रहता था तो अफसरों ने कभी उसके मानसिक अवसाद का कारण भी जानने समझने की चेष्टा क्यों नहीं की।







No comments