Breaking News

महात्मा गांधी के शांति संदेश को वैश्विक स्तर पर लाने की मुहिम है ग्लोबल गांधी पीस अवार्ड: रोशनी लाल Dainik Mail 24

 


पचास से अधिक देशों के शांति दूत करेंगे ग्लोबल पीस की बात - पीयूष पंडित



प्रतापगढ़ ।गोलोबल गांधी शांति अवार्ड की तैयारियों के बीच देश विदेश से लोगो के विचार स्वर्ण भारत को प्राप्त हो रहे हैं स्वर्ण भारत की प्रतिस्पर्धा है | प्रतिस्पर्धा में टकराहट आम बात है | टकराहट हिंसा का सूचक है | हिंसा प्रगति की बाधक है |मानव को नई उचाइयां छूनी हैं | विश्व को अनंत प्रस्तरित होना है | विस्तार में बाधा अस्वीकार्य है |टकराहट का समाधान अहिंसात्मक मार्ग से ही संभव है |गांधी अहिंसात्मक मार्ग के प्रणेता हैं | शांति के उपासक हैं |समन्वय के उदहारण हैं |विश्व को गांधी की आवश्यकता है |सृजन की निरंतरता गांधी की स्वीकारिता में है | यही कारण है की गांधी अपने अहिंसात्मक मार्ग के शांति संदेश के साथ विश्व में कल प्रासंगिक थे, आज आवश्यकता हैं और सदा सदा के लिए विश्व में समाहित हो उसके भविष्य के मार्गदर्शक हैं | गांधी जयंती पर ग्लोबल गांधी पीस अवार्ड्स के माध्यम से स्वर्ण भारत शांति संदेश को ग्लोबल बनाने का यूँ ही प्रयास करता रहे जय हिंद ।







No comments