Breaking News

चौथे दिन भी शकील हत्याकांड मे पुलिस के हाथ खाली, क्लू तलाशने मे जुटी खाकी Dainik Mail 24

 


प्रतापगढ़। लालगंज कोतवाली के बरिस्ता गांव मे खेत मे फसल की रखवाली कर रहे अधेड़ की जघन्य हत्या को लेकर घटना के चौथे दिन भी पुलिस अभी सही क्लू नही तलाश पाई। हालांकि हत्याकांड मे चार आरोपियो को नामजद किया गया है। कोतवाली पुलिस शकील हत्याकांड मे रंजिश के अलावा अन्य कई संभावित कारणो पर भी मशक्कत मे जुटी बताई जाती है। घटनास्थल की स्थिति और मृतक के पिता के द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमें की पटकथा के अन्तर को भी पुलिस हत्याकांड के किसी अन्य संभावित पहलू से भी इंकार करने की स्थिति मे नही देखी जा रही है। शकील का पहले आपराधिक इतिहास होना हालांकि बाद मे उसने अधिया पर खेत लेकर अतीत पर जरूर पर्दा डाल दिया। खेत मे अकेले शकील का फसल रखवाली मे रात रात भर रहना और रात के अंधेरे मे उसकी जिस निर्दयता के साथ हत्या की गई। उसे लेकर भी हत्याकांड का क्लू उलझा हुआ है। रंजिशन हत्या मे सिर से पांव तक मृतक को चोट पहुंचाना वह भी खौफनाक तरीके से इलाके मे भी दबीजुबान से लोग गले नही उतार पा रहे है। माना जा रहा है कि शकील की हत्या करने वाले के मन मे उसके प्रति नफरत की ज्वाला हद से ज्यादा धधक रही थी। तभी तो उसे धारदार हथियार से वीभत्स तरीके से मौत के घाट उतारा गया। हालंाकि कोतवाली पुलिस हत्याकांड की तह तक पहुंचने के लिए कुछ लोगों को हिरासत मे लेकर पूछताछ मे जुटी भी हुई है। इधर शकील की हत्या को लेकर उसके परिवार के लोगों मे अभी भी गम व गुस्से का माहौल बना हुआ है। वहीं परिवार के लोग अपने को असुरक्षित भी मान रहे है। शुक्रवार को जनाजे के समय भी परिवार और गांव के लोगो ने घटना को लेकर परिवार की सुरक्षा की गुहार अफसरो से लगाई। सीओ के जरिए डीएम को भेजवाए गये मांगपत्र मे मृतक के पिता ने सुरक्षा पर ही ज्यादा जोर दिया है। हालांकि सपा के वरिष्ठ नेता वासिक खॉन, जिला उपाध्यक्ष इरसाद सिददीकी, मीडिया प्रभारी मनीष पाल, सददाम हुसैन, जुनैद खान, आजम सिददीकी, निसार अहमद, इस्तियाक अहमद आदि ने भी मृतक के पिता व परिजनो को हत्याकांड को लेकर इंसाफ दिलाए जाने मे हर संघर्ष का भरेासा दिलाते देखे गये। फिलहाल शकील हत्याकांड कोतवाली पुलिस के लिए शीघ्र खुलासे को लेकर चुनौती बनी हुई है।








No comments