Breaking News

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान न खरीद कर सरकार किसानो के हक पर डाल रही डांका - प्रमोद तिवारी Dainik Mail 24

 सीडब्लूसी मेंबर ने आर्थिक मंदी तथा जीडीपी मे गिरावट को बताया केंद्र की नाकामी

कहा कि आर्थिक मंदी और बेरोजगारी मे बढोत्तरी देश के लिए चिंताजनक



प्रतापगढ़। कांग्रेस वर्किग कमेटी के सदस्य एवं आउटरीच कमेटी के प्रदेश प्रभारी प्रमोद तिवारी ने प्रदेश भर मे धान क्रय केन्द्रो पर खरीफ की प्रमुख फसल धान की खरीद न होने को लेकर कडी चिंता जताई है। वहीं क्रय केन्द्रो पर सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी के तहत क्रय केन्द्रो पर अठारह सौ अरसठ रूपये से भी कम मूल्य पर धान की खरीद को किसानो के लिए अहितकारी करार दिया है। शुक्रवार को क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना के कैम्प कार्यालय पर सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी पत्रकार वार्ता के दौरान प्रतापगढ़ मे खरीफ की फसल की क्षति को देखते हुए केन्द्र सरकार से किसानों के लिए विशेष पैकेज की भी मांग की है। श्री तिवारी ने कहा कि धान क्रय केन्द्रो पर अव्यवस्था के चलते किसान परेशान है। वहीं उन्होने कहा कि सामान्य से कम वर्षा होने तथा आवारा पशुओं की वजह से इस बार फसल का उत्पादन कम हुआ है। बकौल प्रमोद तिवारी खरीद मे सरकारी तंत्र के द्वारा नमी का बहाना बताकर मनमाने ढंग से एमएसपी मे सैकडो रूपये कम करके किसान की हक पर डांका डाला जा रहा है। कांग्रेस वर्किग कमेटी के सदस्य प्रमोद ने खरीद मे किसानो पर दोहरी मार को लेकर मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र के हवाले से कहा है कि सरकार यह सुनिश्चित करे कि किसान के धान की खरीद हर दशा मे न्यूनतम समर्थन मूल्य अठारह सौ अरसठ पर ही की जाय। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने प्रतापगढ़ जिले का भी उदाहरण देते हुए कहा कि यह जिला कृषि बाहुल्य है ऐसे मे जबकि प्रतापगढ़ मे कृषि आय का प्रमुख श्रोत है। उन्होने कहा कि इस बार जिले मे सिंचाई की सरकारी अव्यवस्था और खाद तथा बीज समय से नही मिल पाने के कारण फसलों की उपज प्रभावित हुई है। प्रमोद तिवारी ने ऐसे मे जबकि विद्युत कटौती के चलते किसान सरकारी और निजी क्षेत्र के टयूबबेलो से फसल की सिंचाई नही कर सका, केन्द्र सरकार जिले मे कृषि विशेषज्ञो की टीम भेजकर फसलो की क्षति का आकलन कराये। श्री तिवारी ने जिले के किसानो के लिए विशेष आर्थिक पैकेज की भी घोषणा किये जाने पर जोर दिया है। प्रदेश मे कानून व्यवस्था के रोज बिगड़ते हालात पर भाजपा की सरकार की घेराबंदी करते हुए श्री तिवारी ने कहा कि अब तो कहीं भी बेटियां और मासूम बच्चियां तक सुरक्षित नही है। श्री तिवारी ने प्रतापगढ़, हाथरस, बुलंदशहर, बलरामपुर, प्रयागराज, आजमगढ़, वाराणसी, लखीमपुर खीरी, गोरखपुर, अलीगढ़, चित्रकूट तथा झांसी जैसे जिलों मे घटित दुष्कर्म की भयावह घटनाओ का जिक्र करते हुए कहा कि इन घटनाओ से साफ जाहिर है कि यह सरकार अपराधियो पर अंकुश लगाने मे असफल साबित हो रही है। श्री तिवारी ने कोरोनाकाल मे छोटे तथा मझले उद्योगों व रोज कमाने खाने वाले किसानो व मजदूरों की आर्थिक स्थिति भी खराब होने का जिक्र करते हुए कहा कि अब तो अर्न्तराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रबन्ध निदेशक किस्टेलिना जार्जीवा ने भी भारत को विश्व बैंक के बोर्ड आफ गर्वनरर्स की सालाना बैठक मे भारत को छोटे तथा मझले उद्योगों और कमजोर तबके की रक्षा के लिए प्राथमिकता की सलाह दे दी है। उन्होने कहा कि कांग्रेस शुरू से जरूरतमंदो को साढे सात हजार रूपये प्रतिमाह मदद की जो मांग उठाती आ रही है उसका अर्न्तराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भी समर्थन किया है। श्री तिवारी ने आईएमएफ की रिर्पोट का हवाला देते हुए कहा कि देश मे जीडीपी की लगभग 10.6 प्रतिशत की रिकार्ड गिरावट दर्ज होने जा रही है। उन्होने इसे कडी राष्ट्रीय चिन्ता का विषय ठहराते हुए कहा कि हालात इतने दयनीय हो गये है कि जिस बांग्लादेश को भारत ने 1971 मे पेैदा किया। उसकी अर्थव्यवस्था हमसे ज्यादा मजबूत होने जा रही है। श्री तिवारी ने कंेद्र सरकार पर गलत आर्थिक नीतियो को लेकर हमलावार होते हुए कहा कि देश भयंकर आर्थिक मंदी और बेरोजगारी की तरफ तेजी से बढ़ रहा है। उन्होने कहा कि सकल घरेलू उत्पाद कम होने के साथ प्रत्येक व्यक्ति की आय कम हो गयी। सीडब्लूसी मंेबर प्रमोद के मुताबिक पूंजी निवेश लगभग समाप्त हो रहा है। वहीं उन्होने अघोषित विद्युत कटौती के कारण छात्रो के ऑनलाइन कक्षाओ से नही जुड़ पाने को लेकर भी चिंता जताई। इसके पूर्व प्रमोद तिवारी ने सोशल डिस्टेसिंग के मानक के बीच कैम्प कार्यालय पर अधिवक्ताओं तथा व्यापारियो व पंचायत प्रतिनिधियों से मुलाकात की। इस मौके पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष बृजेन्द्र मिश्र, प्रमुख ददन सिंह, चेयरपर्सन प्रतिनिधि संतोष द्विवेदी, प्रतिनिधि भगवती प्रसाद तिवारी, मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल, केडी मिश्र, महमूद आलम, छोटेलाल सरोज, संयुक्त अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष अनिल महेश, व्यापारमण्डल के अध्यक्ष उदयशंकर दुबे, जमुना प्रसाद पाण्डेय, आशीष उपाध्याय भी मौजूद रहे।








No comments