Breaking News

महराजगंज(उ०प्र०)मनरेगा में मृतक व्यक्ति ने लगाई हाजरी और 14 दिन किया मजदूरी, मामले को मैनेज करने में लगे अधिकारी Dainik Mail 24

 

रिपोर्ट-स्वरूप श्रीवास्तव महराजगंज 07-11-2020



सिसवा बाजार-महराजगंज। मनरेगा घोटाले रुकने का नाम नहीं ले रहा है, धीरे-धीरे लूट के नये नये मामले सामने आते जा रहे हैं और अब जो मामला सामने आया है वह काफी चौंकाने वाला है, क्योंकि मनरेगा के लुटेरों ने मृतक से भी मजदूरी करवा डाली है लेकिन मामला खुलते देख कार्यवाही से बचने के लिये अधिकारी भुगतान पर रोक लगाकर पीठ थपथपा ने में लगे हुए हैं।

बताया जाता है कि सिसवा विकासखंड के ग्राम करमही में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, जिसमें बताया जाता है कि करमही निवासी मजीद अहमद  इनकी मृत्यु 2 अगस्त को हो गई लेकिन 25 अगस्त से 7 सितंबर तक मृतक मजीद अहमद मनरेगा के तहत करमही में पीडब्ल्यूडी सड़क से उत्तर कैलाश नाथ के घर तक इंटरलॉकिंग में बकायदा मजदूर इन्होंने काम भी किया है, अधिकारियों ने मस्टरोल पर उपस्थिति बनाकर भुगतान के लिए फिडिंग भी कर दिया, ऐसे में मनरेगा मजदूरी के तहत इन के बैंक खाते में पैसा भी आ गया, जब इस बात की जानकारी ब्लॉक के अधिकारियों को हुई तो हाथ पांव फूल गए और कार्यवाही से बचने के लिए खाते पर ब्रेक लगा दिया।

अब सवाल ये उठता है कि जिस व्यक्ति की मौत 2 अगस्त 2020 को मौत हो गई वह 23 दिन बाद कैसे मनरेगा की मजदूरी करने चला आया और 23 अगस्त 2020 से 7 सितम्बर 2020 तक यानी 14 दिन मजदूरी किया।

खण्ड विकास अधिकारी ने कहा

इस संदर्भ में जब खंड विकास अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की जानकारी हुई है और भुगतान पर रोक लगा दिया गया है।

कार्यवाही होगी या होगा मामला मैनेज

खंड विकास अधिकारी ने तो कहा कि भुगतान पर रोक लगा दी गई है, लेकिन यह मामला गंभीर है और ऐसे में इस में सम्मिलित सभी कर्मचारियों और अधिकारियों पर नियमानुसार कार्रवाई होनी चाहिए, अब देखना है कि उच्चाधिकारी इस मामले में लिप्त लोगों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करते हैं या फिर मामले को मैनेज कर ले जाते हैं!








No comments