Breaking News

भागवत कथा मे भगवान के लीलावतार के मर्म को सुन भावविभोर हुये श्रद्धालु Dainik Mail 24

 नीति और नैतिकता तथा धर्म की प्रेरणा है श्रीकृष्ण का लीलावतार -  दिनेश जी महराज


प्रतापगढ़। हरनाहर के समीप रामचंद्रपुर मछेहा हरदोपटटी मे हो रही श्रीमद्भागवत कथा ज्ञानयज्ञ मे छठवें दिन शनिवार को भगवान कृष्ण की लीला की भावनात्मक कथा सुनकर श्रद्धालु भावविभोर हो उठे। कथाव्यास पं. दिनेश शुक्ल गुरूजी महराज ने कहा कि भगवान कृष्ण की लीलाएं मनुष्य को नीति और नैतिकता तथा धर्म पर आधारित जीवन के श्रंगार की प्रेरणा दिया करती है। उन्होनंे कहा कि कृष्ण नाम का जप कलियुग का सबसे बड़ा पुण्यफल है। जो सच्चे मन से राधे-कृष्ण की भक्ति मे रम जाया करता है, उसका माधवबिहारी हर पल स्वयं कल्याण किया करते है। भगवान की आराधना करने वाले मनुष्य को कभी भी कष्ट की अनुभूति हुआ ही नही करती। कथा के दौरान महिला श्रद्धालुओं के भजन व संकीर्तन से भी पाण्डाल मे आध्यात्मिक आस्था का भावपूर्ण माहौल दिखा। कथा के संयोजक पं. गिरधारी लाल शुक्ल एवं गायत्री शुक्ला ने प्रारम्भ मे गुरू महराज दिनेश जी का श्रद्धालुओं की ओर से अभिषेक किया। सह संयोजक बृजेन्द्र कुमार शुक्ल मुन्ना तथा लालजी शुक्ल ने कथाश्रवण मे आये श्रद्धालुओं को महाप्रसाद का वितरण किया। इस मौके पर डा. आशीष शुक्ल, उपेश शुक्ल, चेयरपर्सन प्रतिनिधि संतोष द्विवेदी, शास्त्री सौरभ त्रिपाठी, राजेन्द्र शुक्ल, सोनू मिश्र, विनय पाण्डेय आदि रहे।








No comments