Breaking News

प्रदेश मे निर्माणाधीन परियोजनाओं का कमीशन की भेंट चढ़ना चिंताजनक- प्रमोद तिवारी Dainik mail 24

 

सीडब्लूसी मेंबर ने गाजियाबाद श्मशान घाट घटना के बाद परियोजनाओं के समीक्षा को लेकर सीएम को लिखा पत्र



लालगंज, प्रतापगढ़। कांग्रेस वर्किग कमेटी के सदस्य एवं यूपी आउटरीच तथा कोआर्डिनेशन कमेटी के प्रभारी प्रमोद तिवारी ने कहा है कि गाजियाबाद के मुरादनगर मे श्मशान घाट की दर्दनाक घटना ने प्रदेश मे चल रही निर्माण प्रक्रियाओं मे लूट का खुलासा उजागर कर गई है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने घटना मे चौबीस निर्दोष लोगों की मौत को लेकर निर्माण एजेन्सियों मे गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए बुधवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भी लिखा है। नगर स्थित क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना के कैम्प कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रमोद तिवारी ने सीएम को लिखे गये पत्र का हवाला देते हुए बताया कि उन्होनें सीएम से प्रदेश मे विभिन्न निर्माण एजेन्सियो द्वारा जारी निर्माण कार्यो की स्वयं समीक्षा का भी अनुरोध किया है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने श्मशान घाट के कॉरिडोर के ढहने से हुई मौतो पर आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी के इस खुलासे को भी बेहद चिंताजनक करार दिया है कि उसने निर्माण कार्य का ठेका टेण्डर के समय तीस प्रतिशत रिश्वत देकर लिया था। उन्होने कहा कि मुरादनगर के कॉरिडोर समेत प्रदेश मे निर्माणाधीन सेतुओं का भी गिरना यह स्पष्ट करता है कि प्रदेश मे निर्माण कार्यो मे कमीशनखोरी अब सबसे ज्यादा चिंताजनक दौर मे पहुंच गयी है। कांग्रेस वर्किग कमेटी के सदस्य प्रमोद तिवारी ने इन घटनाओं के पहलुओं का जिक्र करते हुए लालगंज मे निर्माणाधीन पचास बेड के महिला एवं बाल चिकित्सालय के भवन के निर्माण कार्यो मे विधायक आराधना मिश्रा मोना के निरीक्षण का हवाला देते हुए घटिया सामग्रियों के प्रयोग किये जाने की भी उच्चस्तरीय जांच पर जोर दिया है। श्री तिवारी ने कहा कि चौबीस मौतो से सरकार सबक ले और प्रदेश मे बडे पैमाने पर अभियान चलाकर ऐसी दुखद घटनाओं की पुनरावृत्ति पर रोक लगाये। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने कोरोना काल मे देश के भयानक आर्थिक मंदी मे होने के बावजूद नये संसद भवन हेतु मोदी सरकार के चौदह हजार करोड की लागत से सेन्ट्रल विस्ट्रा प्रोजेक्ट को न्यायोचित ठहराने के प्रयास की भी तल्ख आलोचना की। प्रमोद तिवारी ने तंज कसा कि मोदी सरकार का यह कैसा विरोधाभास कि एक तरफ तो वह संसद भवन को ब्रिटिश हुकूमत की निशानी बता रही है और दूसरी तरफ गणतंत्र दिवस पर होने वाली परेड मे ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को मुख्यअतिथि का आमंत्रण भेजवाया था। उन्होनें कहा कि कोरोना काल मे किसानी व्यापार और छोटे उद्योग धन्धे चौपट हो रहे है। ऐसे मे सरकार को देश के खजाने से गैरजरूरत चौदह हजार करोड़ आर्थिक मंदी के दौर मे खर्च करने से बचना चाहिये। वायरस टीके पर एक सवाल के जबाब मे प्रमोद तिवारी ने कहा कि टीके के लिए भारतीय वैज्ञानिक बधाई के पात्र है। उन्होनें सरकार से कहा है कि टीका विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानको को पूरा करने वाले सभी ट्रायल तथा आवश्यक प्रतिरोध को पार पाने के बाद सभी भारतवासियों को निशुल्क लगाया जाना चाहिये। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद ने हैजा तथा पोलियो और चेचक के टीकाकरण मे कांग्रेस सरकार के कार्यकाल का उदाहरण भी रखा। इसके पूर्व श्री तिवारी ने राजमतीपुर गांव पहुंचकर समाजसेवी उमाशंकर सिंह परिहार की स्मृति मे आयोजित कार्यक्रम मे शामिल हुये। वह सिलौधा गांव भी पहुंचे तथा क्षेत्र पंचायत सदस्य नन्हें पाण्डेय के अवकाश प्राप्त शिक्षक पिता सचेन्द्र नाथ पाण्डेय के आकस्मिक निधन पर परिजनों से मिलकर संवेदना जताई। वहीं श्री तिवारी ने आसाम मे चीन की सीमा पर तैनात जिले के नायब सूबेदार सुधाकर सिंह की शहादत पर भी श्रद्धांजलि अर्पित की है। इस मौके पर प्रतिनिधि भगवती प्रसाद तिवारी, मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल, प्रमुख अशोक सिंह बब्लू, चेयरपर्सन प्रतिनिधि संतोष द्विवेदी, लालगंज प्रमुख ददन सिंह, सुधाकर पाण्डेय, छोटेलाल सरोज, पप्पू तिवारी, डा. अमिताभ शुक्ल, पवन शुक्ल, केडी मिश्र, अवधेश सिंह, जिपंस महेन्द्र सिंह आदि रहे।








No comments