Breaking News

डीजल व पेट्रोल के दामों मे सौ रूपये तक की बढ़ोत्तरी शर्मनाक- प्रमोद तिवारी Dainik mail 24

 

सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने कृष्णमूर्ति के ईवीएम पर बयान की जांच पर दिया जोर, किसान आंदोलन को लेकर भी मोदी सरकार पर हुए हमलावर



लालगंज, प्रतापगढ़। केन्द्रीय कांग्रेस वर्किग कमेटी के सदस्य तथा आउटरीच एण्ड कोआर्डिनेशन कमेटी के प्रभारी प्रमोद तिवारी ने डीजल व पेट्रोल के दामों मे सौ रूपये तक की ताजा बढोत्तरी को शर्मनाक करार दिया है। श्री तिवारी ने आरोप लगाया है कि तेल कंपनियां अब तक बढोत्तरी से पचीस लाख करोड से भी अधिक मुनाफा कमा चुकी है और किसान मध्यम वर्ग व आम जनता कमरतोड़ मंहगाई से त्राहि-त्राहि कर उठी है। उन्होनें केंद्र सरकार से कहा कि यदि वह तथा राज्य सरकार टैक्स को आधा करने का निर्णय ले तो कम से कम तीस रूपये प्रतिलीटर की राहत आम जनता को मिल जाएगी। गुरूवार को यहां मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल के हवाले से जारी बयान मे सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने स्पष्ट कहा कि कोरोना काल मे मोदी सरकार ने पेट्रोल की कीमत सौ रूपये तक बढ़ा कर पेट्रोल पम्पों मे जनता के साथ खुली लूट की इजाजत दे दिया है। उन्होने पेट्रोलियम पदार्थो मे मूल्य वृद्धि को लेकर पीएम नरेन्द्र मोदी के जारी बयान पर कि पिछली केंद्रीय सरकारों की गलती के कारण डीजल व पेट्रोल के दाम बढ़ रहे है। इसे उन्होने जले पर नमक छिड़कने जैसा और अपनी असफलता के पाप को मोदी सरकार द्वारा दूसरे के सिर पर मढ़ना करार दिया है। श्री तिवारी ने पीएम को याद दिलाया है कि अब तो उनके नेतृत्व वाली सरकार को सात साल हो रहे है तथा लोकसभा व राज्यसभा मे पूर्ण बहुमत की सरकार है तो पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार एक सौ चालीस डॉलर प्रतिबैरल कच्चा तेल खरीदकर साठ-पैंसठ रूपये मे पेट्रोल तथा लगभग पचास रूपये मे डीजल बेचती थी। बकौल प्रमोद तिवारी मोदी सरकार तो लगभग ढ़ाई गुना कम दर पर 60.21 डॉलर प्रतिबैरल कच्चा तेल खरीद रही है तो पेट्रोल की कीमत कैसे सौ रूपये तक के पार हो गयी है। उन्होनें डीजल के दामों मे भी सतासी-अठासी रूपये तक के मूल्य वृद्धि सूचकांक को चिंताजनक करार दिया । कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य प्रमोद तिवारी ने बताया कि मौजूदा समय मे अर्न्तराष्ट्रीय बाजार से आने वाले कच्चे तेल की मूल्य दर 31.50 प्रतिलीटर है। केन्द्र सरकार 18.50 तथा राज्य सरकार 39.55 प्रतिलीटर टैक्स ले रही है और इसमे कंपनियां 06.75 रूपये प्रतिलीटर मुनाफा कमा रही है। ऐसे मे ट्रांसर्पोटेशन को लेकर दामों मे पेट्रोल सौ रूपये का आंकडा छू गया है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने आरोप लगाया कि अडानी व अंबानी के दबाव मे सरकार पेट्रोलियम पदार्थो मे मूल्य बढोत्तरी नही रोक पा रही है क्योंकि ऐसा करने से सरकारी कंपनियां तो कम कीमत पर तेल बेचेगीं और पिछली बार की तरह पूंजीपतियों के पेट्रोल पम्प बंद हो जाएगें। प्रमोद तिवारी ने प्रधानमंत्री के बयान कि आपदा को अवसर मे बदलना चाहिए पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कोई यह भले न कर पाया किंतु मोदी सरकार ने मंहगाई का बोझ जनता पर लादकर यह जरूर कर दिखाया है। सीडब्लूसी मेंबर प्रमोद तिवारी ने किसान आंदोलन को बर्बरतापूर्वक कुचलने का भी मोदी सरकार पर आरोप मढ़ते हुए कहा कि इसका हश्र हाल ही मे पंजाब मे हुए नगर निकाय तथा नगर निगम के चुनावो मे निर्दलीयों से भी पीछे चौथे स्थान पर भाजपा का पहुंचना सत्ता के अहंकार को जोरदार तमाचा है। उन्होनें सरकार से कहा है कि वह पचासी दिनों से चल रहे किसान आंदोलन को समाप्त कराने के लिए उनकी मांगे अब फौरन स्वीकार करे अन्यथा किसान भगवान का श्राप पूरे देश पर भारी पड़ेगा। पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त कृष्णमूर्ति के बयान का जिक्र करते हुए प्रमोद तिवारी ने कहा कि यदि पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त यह कह रहे है कि उत्तर प्रदेश तथा उत्तराखण्ड के चुनाव मे इलेट्रॉनिक वोटिंग मशीन मे गडबडी की गई थी तो यह लोकतंत्र की हत्या है। उन्होनें कृष्णमूर्ति के बयान की निष्पक्षता पूर्वक जांच कराकर लोकतंत्र की ईमानदारी और विश्वसनीयता पर भी सरकार से तस्वीर साफ करने की मांग की है।








No comments