Breaking News

जानी मानी भोजपुरी सुपरस्टार आम्रपाली के नाम हुई महोत्सव की शाम, रवि के गीतों का भी धमाल Dainik mail 24

 

गीत व भजन तथा लोक-नृत्य में सांस्कृति सुरसरिता का दिखा अनुपम संगम




लालगंज,प्रतापगढ़। बाबा घुइसरनाथ धाम के एकता महोत्सव की समापन संध्या पर शुक्रवार की रात जानी मानी भोजपुरी सुपरस्टार आम्रपाली दुबे की अदा तथा गीतों ने पूरी की पूरी महफिल को अपने नाम बनाने मे कोई कोर कसर न छोडी। वहीं ओलंपिक समारोहों के वॉलीवुड स्टार रवि त्रिपाठी के भी भजन तथा वॉलीवुड के कई धमाकेदार गीतों की महफिल सजी तो छब्बीसवां महोत्सव लोगों के दिलों मे उतर आया। कलाकारों की दर्शकों के बीच प्रस्तुतियों ने उमड़े जनसैलाब को तो आगोश में ले ही लिया। वहीं बाबा के समीप बह रही आदिगंगा सई की धाराएं भी संगीत सुरसरिता में थिरक सी उठी दिखीं। वहीं शांत पड़े गंगा-सरोवर में भी आधी रात गीत व संगीत के झंकार ने मानो उथल-पुथल करते हुए हिलोरें उठने लगी। उत्तर मध्य सांस्कृतिक केन्द्र प्रयागराज से आये डा. प्रतिमा यादव के सांस्कृतिक दल ने रात की पूर्वान्ह बेला तक जमकर धमाल मचाया। प्रतिमा के निर्देशन में भोलादानी कहला हमार जोगिया.. तथा बतिया माना बलम कलकतिया.. व हमके गढ़ाय द नथुनिया से श्रोता वाह-वाह कर उठे। प्रतिमा के सांस्कृतिक दल ने जब मंच से मेरा रंग दे बसन्ती चोला की प्रस्तुति दी तो महोत्सव स्थली का कोना-कोना राष्ट्रीयता के जोश से भर उठा दिखा। प्रयागराज के रंगीला म्यूजिकल इवेंट ग्रुप ने भी मंच से बृज की सांस्कृतिक होली तो गीत व संगीत तथा नृत्य की अदाओं से महिला एवं पुरूष ऑडीटोरियम में मौजूद हर ताली को बटोरने में भी सफलता लेती दिखी। गोपिकाओं ने मंच से नीचे दर्शकों पर भी होली के अबीर उड़ाये तो दर्शकों के बीच कलाकारों की हौसला आफजाई स्वयं विधायक मोना करती दिखीं। मुम्बई की चर्चित भोजपुरी सुपरस्टार आम्रपाली दुबे मध्य रात्रि जब रंग बिरंगी रोशनियों से नहा उठे सांस्कृतिक रंगमंच पर पहुंची तो खचाखच भरे महिला एवं पुरूष आडीटोरियम मे उभरा जोश संभालते न संभाल दिख रहा था। आम्रपाली ने विशिष्ट लॉबी के साथ युवा चेहरों तथा हर सुधी श्रोता और दर्शक लॉबी पर बेहतरीन छाप छोडी। आम्रपाली होलिया में उड़े रे तथा सरकत ब हमार चुनिया.. को आवाज दिया तो महोत्सव इतरा उठा। वॉलीवुड स्टार एवं सांस्कृतिक संध्या के संयोजक रवि त्रिपाठी के साथ आम्रपाली ने गोरकी पतरकी रे.., नई झुलनी के छइया बलम दुपहरिया बिता ला हो.. ने मंच से लेकर आडीटोरियम को महोत्सव की उमंगो से अपने आगोश मे ले लिया। आम्रपाली के मंच पर लटके झटके और भाव नृत्य पर भी महोत्सव को देखने आया सैलाब किसी तरह जोश काबू करता दिखा। पार्श्व-गायक रवि त्रिपाठी के बम भोले बम की प्रस्तुति ने भगवान शिव की आराधना का बेहतरीन भक्तिभाव हर किसी के हृदय मे संजोये दिखा। वहीं रवि त्रिपाठी ने प्रख्यात कवि जुमई खां आजाद की कथरी को भी बेहतरीन सुर दिया। रात के ढलान पर प्रयागराज के सांस्कृतिक दल की कलाकारों ने कई भोजपुरी व फिल्मी तरानों से महोत्सव की कामयाबी को सुबह की किरणों की ओर प्रकाशमान बनाने में कोई कोरकसर बाकी न रखी। राजेन्द्र विश्वकर्मा का संचालन व कमेडी भी महोत्सव की समापन संध्या को गुदगुदाता दिखा। शुक्रवार की रात समापन बेला पर केन्द्रीय कार्यसमिति के सदस्य एवं पूर्व राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी ने प्रस्तुतियां देने वाले कलाकारों का सारस्वत सम्मान किया। वहीं आम्रपाली दुबे व रवि त्रिपाठी तथा डा. प्रतिमा यादव को क्षेत्रीय विधायक एंव कांग्रेस विधानमण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने एकता सम्मान 2021 के तहत प्रशस्ति पत्र तथा शॉल व स्मृति-चिन्ह भेंट की। प्रमोद व मोना के साथ कलाकारों को सम्मान के साथ हौसला आफजाई मे एसडीएम राम नारायण, सीओ जममोहन की भी असरदार उपस्थिति देखने को मिली।








No comments